बदलते मौसम में होने वाले वायरल फीवर का इन घरेलू तरीकों से करे उपचार

By - Oct 06, 2018 05:52 AM
बदलते मौसम में होने वाले वायरल फीवर का इन घरेलू तरीकों से करे उपचार

मौसम में बदलाव के साथ ही लोगों को सर्दी-जुकाम और वायरल फीवर जैसी कई बीमारियां घेरने लगती  हैं। यही नहीं इसके अलावा पेट से जुड़ी बीमारियां भी आपको शारीरिक रूप से कमजोर कर देती हैं। क्योंकि इस समय में इम्यून सिस्टम बहुत वीक हो जाता है जिसकी वजह से शरीर में इंफेक्शन बहुत तेजी से बढ़ता है। 
आपको बता दें कि वायरल का इंफेक्शन छींक और खांसने से बहुत तेजी से एक इंसान से दूसरे इंसान तक पहुंच जाता है। वायरल फीवर बड़ों के साथ ही बच्चों में भी तेजी से फैलता है। इसलिए आज हम आपको वायरल फीवर में आराम के लिए कुछ घरेलू नुस्खे बता रहे हैं।
वायरल फीवर के लक्षण : 
1. गले में दर्द, खांसी
2. सिरदर्द और थकान
3. तेज बुखार होना
4. कभी गर्मी, कभी सर्दी लगना
5. पेट खराब होना
वायरल फीवर के घरेलू उपचार :
1. नींबू और शहद - नींबू का रस और शहद भी वायरल फीवर के असर को कम करते हैं। आप शहद और नींबू का रस का सेवन भी कर सकते हैं।
2. तुलसी का इस्तेमाल - तुलसी में एंटीबायोटिक गुण होते हैं जिससे शरीर के अंदर के वायरस खत्म होते हैं। एक चम्मच लौंग के पाउडर और दस से पंद्रह तुलसी के ताजे पत्तों को एक लीटर पानी में डालकर इतना उबालें जब तक यह सूखकर आधा न रह जाए, इसके बाद इसे छानें और ठंडा करके हर एक घंटे में पिएं। आपको वायरल फीवर से जल्द ही आराम मिलेगा।
3. मेथी का पानी - आपकी किचन के मसालों में मेथी तो होगी ही, एक कप में मेथी के दानों को भरकर रात भर के लिए भिगों दें और सुबह के समय इसे छानकर हर एक घंटे में पिएं। जल्द ही आराम मिलेगा।
4. हल्दी और सौंठ का पाउडर- अदरक में एंटी आक्सिडेंट गुण बुखार को ठीक करते हैं, एक चम्मच काली मिर्च का चूर्ण, एक छोटी चम्मच हल्दी का चूर्ण औरएक चम्मच सौंठ यानी अदरक के पाउडर को एक कप पानी और हल्की सी चीनी डालकर गर्म कर लें। 
जब यह पानी उबलने के बाद आधा रह जाए तो इसे ठंडा करके पिएं। इससे वायरल फीवर से आराम मिलता है।
5. धनिये की चाय- धनिया सेहत का धनी होता है इसलिए यह वायरल बुखार जैसे कई रोगों को खत्म करता है, अगर आपको भी वायरल के बुखार को खत्म करना है तो धनिया चाय बहुत ही असरदार औषधि का काम करती है।