साइंटिस्ट का दावा, सोया प्रोडक्ट से बढ़ रहा है ब्रेस्ट कैंसर का खतरा

By - Oct 08, 2018 10:14 AM
साइंटिस्ट का दावा, सोया प्रोडक्ट से बढ़ रहा है ब्रेस्ट कैंसर का खतरा

कैंसर कोई भी हो, जानलेवा साबित हो सकता है अगर समय रहते इसका इलाज शुरू ना किया जाए। वैसे तो इसके बहुत सारे प्रकार है, जिसमें से एक है ब्रेस्ट कैंसर। इस कैंसर की चपेट में पुरुषों के मुकाबले महिलाएं ज्यादा आती हैं। कैसे फैलता है स्तन कैंसर? 
स्तनों में असामान्य कोशिकाएं तेजी से बढ़ने पर स्तन कैंसर की शुरुआत होती हैं जो मिलकर पहले एक ट्यूमर बनाती हैं और धीरे धीरे ब्रेस्ट में फैलना शुरू हो जाता है और ब्रेस्ट कैंसर का रूप ले लेता है। 
सोयाबीन बनता है कैंसर का कारण
बहुत सारे लोग हाई प्रोटीन के लिए सोयाबीन का सेवन करते हैं जबकि पिछले कुछ शोधों में भी यह बात कही जा रही थी कि सोयाबीन खाने से ब्रेस्ट कैंसर का खतरा कम होता है लेकिन हाल ही में हुई न्यू यॉर्क मेमोरियल स्लॉन केटरिंग कैंसर सेंटर के शोधकर्त्ताओं के अनुसार, उन महिलाएं को स्तन कैंसर का खतरा ज्यादा रहता है जो सोयाबीन का सेवन करती हैं। सोयाबीन प्रॉडक्ट्स का अधिक सेवन ब्रेस्ट कैंसर को बढ़ाने वाली कोशिकाओं को तेजी से फैलाता है।
चीन में नहीं इस्तेमाल होता सोयाबीन
चीन में फारमेंटेड सोयाबीन का सेवन किया जाता है क्योंकि बिना फारमेंट सोयाबीन में बहुत तरह के टॉक्सिन्स होते हैं साथ ही इसमें एंटीन्यूट्रिएंट्स की भी मात्रा काफी ज्यादा होती है क्योंकि साधारण कुकिंग में हाई प्रोटीन पूरी तरह से डिएक्टिवेट नहीं हो पाता जो ग्रेस्टिक प्रॉब्लम, प्रोटीन अपच और अमिनो एसिड व क्रोनिक समस्याओं को बढ़ाती है। ट्रिप्सिन नामक तत्व से भरपूर सोयाबीन कैंसर व पैनक्रिया कैंसर का भी कारण बनती हैं, इस बात का पता जानवरों पर हुए एक शोध के दोरान हुआ। 
स्तन कैंसर टिश्यू तेजी से फैलाता है सोयाबीन 
शोध के अनुसार, सोया सप्लीमेंट आहार लेने से पहले व लेने के 30 दिन बाद के ट्यूमर उत्तकों की तुलना की गई जिसमें पाया गया सोया सप्लीमेंट लेने से महिलाओं के सैल्स की वृद्धि हुई। शोधकर्ताओं का कहना है, श्सोयाबीन में जीनोस्ट्रोजीन्स नामक रासायनिक कंपाउंड के चलते कैंसर में इस्तेमाल होने वाले एंटीएस्ट्रोजन उपचार का प्रभाव कम हो सकता है।श्