शिवपाल यादव ने किया अपनी नई पार्टी के नाम का ऐलान, कई सपा नेता हुए शामिल

By - Oct 23, 2018 10:58 AM
शिवपाल यादव ने किया अपनी नई पार्टी के नाम का ऐलान, कई सपा नेता हुए शामिल

लखनऊ। शिवपाल यादव की नई पार्टी का नाम प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) होगा। उन्होंने मंगलवार को समाजवादी सेकुलर मोर्चा द्वारा आयोजित विशाल सदस्यता कार्यक्रम के दौरान ये ऐलान किया। इस दौरान उन्होंने अखिलेश यादव पर तंज कसते हुए कहा कि मुझे तो ठकेला ही गया मुझे और नेता जी को अपमानित किया गया। जो चापलूस और चुगलखोर थे उनकी वजह से ये सब हुआ था। इस दौरान उन्होंने बीजेपी सरकार पर निशाना साधा। बता दें कि सपा, कांग्रेस व बसपा के कई जिलों के नेता मंगलवार को समाजवादी सेकुलर मोर्चा में शामिल हो गए। इस मौके पर मोर्चा के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव मौजूद रहे और नेताओं का स्वागत किया।

लखनऊ के गन्ना संस्थान में आयोजित समारोह में शिवपाल सिंह यादव मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल हुए। गन्ना संस्थान में आयोजित इस कार्यक्रम में सेकुलर मोर्चा का झंडा थामने वालों में सपा के प्रदेश सचिव की जिम्मेदारी संभालने वाले अजय त्रिपाठी और विनीत शुक्ला उर्फ वीमू शुक्ला समेत लखनऊ, गोंडा, बहराइच, बस्ती, सिद्धार्थनगर, अमेठी , रायबरेली समेत कई जिलों के नेता शामिल हैं। अजय त्रिपाठी 2012 में मेयर पद का निर्दलीय चुनाव लड़ चुके हैं। आपको बता दें कि शिवपाल ने प्रदेश की सभी 80 सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा की है। सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव ने भी शिवपाल का समर्थन किया है। शिवपाल ने अब पीछे न हटने की बात कही है।

शिवपाल यादव ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा, हम व्यवस्था में परिवर्तन करेंगे। देश और प्रदेश क्यों पीछे जा रहा है। लॉ एंड ऑर्डर की स्थिति क्या है कहीं भी कोई सुनवाई नहीं है ,रोजगार मिल नहीं रहा है।पूरे देश और प्रदेश की जनता गालत सरकार के निर्णय लेने की वजह से सभी वर्ग के लोग दुखी। व्यापारियों के वोट से हमेशा बीजेपी की सरकार बनी है। आज जिनलोगों ने बीजेपी को वोट दिया था सभी बीजेपी से दुखी है। नोटबन्दी और जीएसटी के बाद से सब डरे हुए हैं पता नहीं कब किसे इनकम टैक्स का नोटिस आ जाए। व्यापारी नौजवान सभी परेशान हैं इस दौरान शिवपाल यादव ने कहा अब हमारी पार्टी का रजिस्ट्रेशन हो गया है प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया नाम से पार्टी जानी जाएगी।

2 साल होने जा रहे हैं जो राजस्व संहिता हमने लागू किया था उसका पालन नहीं हो पा रहा है। कहीं भी बिना पैसे की सुनवाई नहीं हो सकती। वैसे तो समाजवादी पार्टी में हमने बहुत लंबे समय तक काम किया है। दो बार मंत्री रहे बहुत जिम्मेदारी के विभाग थें बिजली, सिंचाई, पीडब्लूडी आदि सभी में बढ़िया काम हुआ इतने डैम,पुल कभी नहीं बने ,2 साल के अंदर राजस्व संहिता को लागू किया था।