मोदी सरकार को संतों की चेतावनी, 31 जनवरी तक मंदिर निर्माण का रास्ता निकाले

By - Oct 06, 2018 05:28 AM
मोदी सरकार को संतों की चेतावनी, 31 जनवरी तक मंदिर निर्माण का रास्ता निकाले

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट में 29 अक्तूबर से राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद से जुड़ी विवादित जमीन के मालिकाना हक को लेकर मुकद्दमे की नियमित सुनवाई शुरू होने से पहले राम मंदिर के निर्माण को लेकर विश्व हिंदू परिषद (वी.एच.पी.) ने तेवर कड़े कर लिए। शुक्रवार को हुई अहम बैठक में संतों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार को 4 महीने का अल्टीमेटम दिया है। संतों ने साफ कहा है कि सरकार 31 जनवरी तक मंदिर निर्माण का रास्ता तलाशे। इसके अलावा संतों ने राम मंदिर के निर्माण पर केंद्र सरकार से अध्यादेश लाने के लिए दबाव बनाने का फैसला लिया है। संतों ने कहा कि 31 जनवरी तक सरकार कोई फैसला नहीं करती है तो फिर 1 फरवरी को धर्म संसद में आगे की रणनीति बनाई जाएगी। इसके अलावा नवम्बर महीने में देश के सभी सांसदों से मिलकर राम मंदिर निर्माण के मुद्दे को संसद में उठाने के लिए दबाव बनाएंगे।
इसके अलावा 6 दिसम्बर से 18 दिसम्बर (गीता जयंती) तक देश भर के मंदिरों, गुरुद्वारों में राम मंदिर निर्माण के लिए कार्यक्रम करने की संतों ने योजना बनाई है। शुक्रवार को हुई संतों की बैठक में वी.एच.पी. ने राम मंदिर के निर्माण को लेकर प्रस्ताव पास किया। प्रस्ताव में कहा गया है कि सभी राज्यों में धार्मिक, सामाजिक संस्थाओं के साथ-साथ देश के सभी राज्यों के राज्यपालों से मुलाकात कर राम मंदिर निर्माण को लेकर जनभावना से अवगत कराएंगे। इसके अलावा राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री से मुलाकात करने की योजना संतों ने बनाई है। 
वहीं किन्नर समाज के 2 दर्जन लोगों ने अध्यक्ष गुलशन बिंदु के नेतृत्व में अयोध्या की तपस्वी छावनी में पहुंचकर वहां राम मंदिर निर्माण को लेकर अनशन कर रहे परमहंस दास से मुलाकात की। किन्नरों ने दास की आरती उतारी और भजन भी गाए। इसके साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से जल्द से जल्द राम मंदिर निर्माण की मांग की।
बड़े आंदोलन की तैयारी संतों ने यह भी कहा कि अगर केंद्र सरकार राम मंदिर निर्माण के लिए कानून नहीं बनाती है तो वी.एच.पी. की उच्चाधिकार समिति के नेतृत्व में बिंदू समाज मंदिर के निर्माण के लिए बड़ा आंदोलन करेगा। सूत्रों के अनुसार खबर यह भी है कि बैठक में एक प्रस्ताव पास किया जाएगा जिसमें यह मांग भी की जाएगी कि केंद्र सरकार जन भावना को देखते हुए राम मंदिर के निर्माण पर अध्यादेश लाए जिसके बाद राम जन्मभूमि पर भव्य राम मंदिर का निर्माण कार्य शुरू किया जाए।