खुद प्रधानमंत्री का आध्यात्मिक गुरु बताने वाला पुलकित महाराज गिरफ्तार

By - Sep 29, 2018 05:33 AM
खुद प्रधानमंत्री का आध्यात्मिक गुरु बताने वाला पुलकित महाराज गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच टीम ने मशहूर कथक डांसर पुलकित महराज को धोखाधड़ी और जालसाजी के आरोप में गिरफ्तार किया है। पुलकित पर आरोप है कि वह अपने आप को प्रधानमंत्री का आध्यात्मिक गुरू बताते हुए अधिकारियों से वीआईपी ट्रीटमेंट लेता है। हाल ही में जब ऐसी घटनाएं तेज हो गईं तो पीएमओ के पास शिकायत पहुंची, जिसके बाद खुद प्रधानमंत्री ऑफिस ने इसकी शिकायत क्राइम ब्रांच को की थी।
क्राइम ब्रांच के एडिशनल सीपी राजीव रंजन ने बताया कि अगस्त में प्रधानमंत्री कार्यालय से असिस्टेंट डायरेक्टर की तरफ से शिकायत मिली थी कि पुलकित महाराज नाम का एक शख्स खुद को प्रधानमंत्री का आध्यात्मिक गुरु बताकर अफसरों पर रौब जमाता है। अलग-अलग राज्यों में वीआईपी प्रोटोकॉल के अलावा रहने से लेकर खाने तक की सुविधाएं हासिल करता है। 
पुलकित ने इसी साल कला और सांस्कृतिक मंत्रालय के सचिव के नाम से सीतापुर के जिलाधिकारी को एक पत्र भेजा। जिसमें उसने खुद को मंत्रालय का डायरेक्टर बताते हुए सीतापुर दौरे पर वीवीआईपी प्रोटोकाल की मांग की थी। इसके बाद वह एक अप्रैल 2018 को सीतापुर गया जहां उसे पुलिस प्रशासन ने वीवीआईपी प्रोटोकॉल मुहैया करवाया था। दौरे के बाद डीएम को पुलकित के फर्जी होने का शक हुआ जिसके बाद उन्होंने इसकी शिकायत लिखित रूप से मंत्रालय में शिकायत की। जिसके बाद प्रधानमंत्री कार्यालय हरकत में आ गया। 
पीएमओ ने इसकी जांच क्राइमब्रांच को सौंपी। पड़ताल में पता चला कि सीतापुर के डीएम को भेजा गया लेटरहेड फर्जी है। अगस्त में इस मामले की जांच में  एक के बाद एक खुलासे होते रहे। क्राइम ब्रांच को पता चला कि पुलकित द्वारा धोखाधड़ी का यह पहला मामला नहीं है।
पुलकित ने इससे पहले भी कई अन्य मंत्रालयों के फर्जी लेटरडेड पर कई राज्यों में वीवीआईपी सुविधाएं लेता आया है। एक महीने की जांच के बाद पुलकित महराज को शुक्रवार को क्राइम ब्रांच ने हिरासत में ले लिया। पुलकित पांच दिनों के लिए क्राइम ब्रांच की रिमांड पर है। गिरफ्तारी के वक्त पुलकित महाराज अपने साहिबाबाद स्थित घर पर मौजूद था। पुलिस को जांच के दौरान पता चला है कि इसकी बहन पारुल भी इसके साथ ऐसे फर्जीवाड़ों में लिप्त थी। मंत्रालय के फर्जी लेटर हेड पर पारुल पुलकित महाराज की सचिव बनी हुई थी। 
पुलकित ने यूट्यूब पर अपनी एक 42 मिनट की आत्मकथा का वीडियो भी डाला है जिसमें वह दावा कर रहा है कि 'जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे तब उसकी मुलाकात उनसे एक कार्यक्रम में हुई थी और वे मेरे कायल हो गए। मैंने मोदी से कहा कि आप देश के प्रधानमंत्री जरूर बनोगे.' ऐसे ही उसका दावा है कि उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ को प्रधानमंत्री ने सीएम उसी के कहने पर बनाया।
कौन है पुलकित महाराज 
पुलकित मूलरूप से यूपी के चंदौसी का रहने वाला है। पुलकित की पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ,प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल समेत दर्जनों वीआईपी और वीवीआईपी के साथ तस्वीरें भी हैं, जो सही बताई जा रही हैं।
प्रणब मुखर्जी उसे कोई अवार्ड देते हुए दिख रहे हैं। वह खुद को राष्ट्रपति से सम्मानित बताकर धौंस जमाता था। पुलकित के मुताबिक दिलशाद गार्डन इलाके में आलिंगन वेलफेयर सोसाइटी के नाम से उसकी डांस एकेडमी और अपना एक आध्यत्मिक सेंटर भी है।
उसका दावा है कि वहां 2500 से ज्यादा बच्चे कथक सीखने आते हैं। उसके विदेश में भी सेंटर और हज़ारों शिष्य हैं। इतना ही नहीं, फिलहाल, यह कथक गुरु पुलकित महाराज अब पांच दिनों के लिए क्राइम ब्रांच की रिमांड पर हैं।
पुलिस मामला दर्ज कर यह जानने की कोशिश कर रही है कि पुलकित का किन-किन अधिकारीयों के साथ संबंध हैं और वह कैसे मंत्रालयों के फर्जी दस्तावेज तैयार करता था ? इसके आलावा पुलिस इस फर्जीवाड़े में उनकी बहन पारुल को लेकर भी छानबीन कर रही है।